भिवंडी मनपा की उदासीनता से बर्बाद होता पीने का पानी

0

भिवंडी मनपा की उदासीनता से बर्बाद होता पीने का पानी..

भिवंडी मनपा की उदासीनता से बर्बाद होता पीने का पानी
भिवंडी मनपा की उदासीनता से बर्बाद होता पीने का पानी

भिवंडी में अच्छे प्रशासन और प्रशासक की कमी हमेशा से महसूस की जाती रही है। इस वर्ष बरसात में बहुत सारे गटरों की साफ सफाई नही हुई है और इसका नतीजा यह हुआ है कि कोरोना जैसी भयानक बीमारी में भी एक ही बारिश में कई गटर उफान मारकर बहने लगे। साफ सफा होती नही और इन गटरों को जाम करने में भिवंडी की जनता का भी अमूल्य योगदान है जो कचरा उठाकर गटर में फेंक देते हैं। गुटखा, तम्बाकू, शैम्पू इत्यादि के पाउच नालियों में फेंक कर ब्लॉक कर देते हैं।

बात यहीं खत्म नही होती उन्ही नालियों में से पीने के पानी की पाइपलाइन गुजरती हैं। यह पाइपलाइन बहुत ही पुरानी भी हैं साथ साथ भिवंडीवासी नाली जाम करने के साथ साथ पानी चोरी करने की आदत से भी मजबूर हैं इसलिये जगह जगह पानी की पाइपलाइन में छेद करके पानी चुराते हैं और बाद में उस छेद को खुला छोड़ देते हैं उसे बंद नही करते ऐसे में कई बार गटर का पानी पीनेवाले पानी के पाइपलाइन में अंदर रिसता रहता है और जब गटर ओवरफ्लो होकर बहता है तो कितना गटर का पानी उसमे जाकर मिलता है यह तो भगवान ही जनता होगा। खैर स्वार्थी, अड़ियल जनता और गैर जिम्मेदार प्रशासन से बेहतर उम्मीद रखना भी बेमानी है।

हमारे रिपोर्टर जब भिवंडी के पाइपलाइन से गुजर रहे थे तब उन्होंने देखा कि पाइपलाइन पर चौधरी इलेक्ट्रॉनिक्स और ज़ेरॉक्स की दुकान के सामने पाइप फूटी हुई है और पानी बह रहा है। यह सिलसिला शायद कई दिनों से चल रहा है यह नीचे दिये गए वीडियो को देखकर समझ मे आता है लेकिन कोई इसकी मरम्मत करके पानी को व्यर्थ बहने से बचाने में दिलचस्पी नही दिखाता ना प्रशासन ना नागरिक। लोग रोज देखते हैं कि मराठवाड़ा विदर्भ में पानी की किल्लत से कैसे लोग परेशान होते हैं, किसान सूखे की वजह से आत्महत्या करते हैं फिर इतने असंवेदनशील हैं कि, पानी बर्बाद होने देते हैं।

थोड़ी ही दूर पर साईबाबा की ओर जैसे ही हमारे रिपोर्टर आगे आये  और कारपोरेशन बैंक को पार करते ही संत निरंकारी भवन के सामने दूसरी पाइपलाइन से पानी बहता हुआ दिखाई दिया। यह पाइपलाइन ठीक सुपर बैटरी सर्विस दुकान के सामने बाह रही थी। इसका लैंडमार्क संत निरंकारी भवन है और इसके बगल से ही भादवड़ गाँव मे जाने का दूसरा रास्ता है। अनोखी बात यह है कि यह दोनों ही पाइपलाइन एकदम कल्याण रोड पर ही बाह रही हैं इसी रोड से हजारों लोग और प्रशासकीय अधिकारी आते जाते हैं पर किसी को इस लीकेज को ठीक कराने की जरूरत समझ मे नही आती।

जिस क्षेत्र में यह दोनों लीकेज पाइपलाइन में है उसमें तीन मौजूदा नगरसेवक श्री बालाराम चौधरी, श्री मैदान बुआ नाईक, श्री संजय म्हात्रे और पूर्व विधायक (माजी आमदार) श्री रूपेश म्हात्रे रहते हैं।

नोट: यदि आपको हमारी खबर अच्छी लगे तो हमारे न्यूज़ पोर्टल पर बेल आइकॉन दबाकर इसे सब्सक्राइब करें। आप खुद भी अपनी न्यूज़ हमारे पोर्टल पर होमपेज पर जाकर Submit news ऑप्शन पर क्लिक करके पोस्ट कर सकते हैं, या हमे ऊनी न्यूज़ contact@trublitz.com पर ईमेल कर सकते हैं।

 

 

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.