विद्यार्थी अगर उग्र प्रदर्शन करें तो उन्हें गिरफ्तार न करें, सीधे निष्कासित करें-FAE

0

विद्यार्थी अगर उग्र प्रदर्शन करें तो उन्हें गिरफ्तार न करें, सीधे निष्कासित करें-FAE

गिरफ्तार करने से पुलिस प्रशासन की छवी हो सकती है धूमिल

CAA को लेकर देशभर के विद्यार्थी संघटन विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। कई जगह इन विद्यार्थियों पर कानूनी शिकंजा भी कसा गया है। प्रदर्शन उग्र होने के बाद पुलिस को भी शांति व्यवस्था के लिए कुच करना होता है। ऐसे में पुलिस और विद्यार्थियों के बीच काफी तनातनी देखने मिलती है।मगर विद्यार्थी का प्रदर्शन उग्र होना कितना उचित है और उग्रता के लिए कौन है पीछे ?

Fight against Evils” नामक एक ट्विटर ग्रुप ने मानवसंसाधन मंत्रालय से माँग की है की विद्यार्थी कॉलेज और यूनिवर्सिटी में पढ़ने जाते हैं। ऐसे में विद्यार्थियों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने का अधिकार होता ही है। मगर कुछ वर्षों से इन विद्यार्थी संगठनों में राजकीय घुसपैठ हो चुकी है। जिसके कारण विद्यार्थियों का इस्तेमाल पॉलीटिकल एजेंडा को पूरा करने हेतु अप्रत्यक्ष तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है। अगर इसी प्रकार विद्यार्थी प्रदर्शन में लिप्त होंगे तो हो सभी विद्यार्थी की छवी कुछ राजकीय गुटों के कारण बदनाम हो सकती है।

जैसे ही प्रदर्शन उग्र हो जाता है पुलिस की भूमिका भी बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है। क्योंकि पुलिस का काम है शहर में शांति एवं सुव्यवस्था कायम रखना। ऐसे में विद्यार्थियों और पुलिस के बीच में कई जगहों पर तनातनी देखने मिली है। ऐसे में “Fight Against Evils ” नामक ग्रुप ने मानवसंसाधन मंत्रालय को लिखकर सूचित किया है की जो भी विद्यार्थी कॉलेज एवं यूनिवर्सिटीज में विरोध प्रदर्शन करते हैं उन सभी को पुलिस द्वारा बिल्कुल गिरफ्तार ना किया जाए क्योंकि वह सभी विद्यार्थी है। ऐसे में उन सभी विद्यार्थियों को कॉलेज एवं यूनिवर्सिटी से निष्कासित करने की मांग इस ग्रुप ने उठाई हैं। विद्यार्थियों को गिरफ्तार करने से मौजूदा सरकार एवं पुलिस को अंतरराष्ट्रीय मीडिया एवं मानवाधिकार संघटन घेर सकती है। ऐसे में निष्कासित करना एकमात्र उपाय है जो कानूनी कार्यवाही से कई गुनाह बेहतर है।

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.